मेरा कोई भी दोस्त* *बूढ़ा नहीं हुआ….!

** सच्चाई में ढ़ले हैं , सब अब भी मनचले हैं । कृपा है सब पे रब की , पर्वत से सब खड़े हैं । ना दर्द कोई दिल में , छा जाऐं वो महफिल में । वो सबके काम आयें , जो भी हो मुश्किल में । नहीं कोई है घमंडी , ना ही […]

पैगाम उस पार नहीं जाता

धूल भरी आंधियों में कुछ नजर नहीं आता, नज़रें इधर-उधर देखती हैं जब तक ये दिल भर नहीं जाता, एक छड़ी जो पकड़ी है इन्सान तो उससे भी सहारा नहीं पाता, जब – जब उसे सनम के दीदार की दरकार होती है, आंखों के सामने से वो नजारा नहीं जाता, हमसफर और हमराज़ जो होते […]

मत करना

मैं घुटने टेक दूँ,इतना कभी मजबूर मत करना खुदाया थक गई हूं,पर थकन से चूर मत करना मुझे मालूम है मैं अब किसी की हो नही सकती, तुम्हारा साथ गर माँगूँ तो तुम मंजूर मत करना यहां की हूँ,वहां की हूँ,खुदा जाने कहाँ की हूँ मुझे दूरी से कुर्बत है,ये दूरी दूर मत करना ना […]

मुस्कुरा जो दिया करते हो

रहमत खुदा की आदत नहीं हुआ करती ज़ज़बा ए मोहब्बत से खुदा मिला करते है। तुम निज़ाम से ताल्लुक भी रखो अगर मिन्नतों से ही खुदा की रहमत के हकदार हुआ करते है। तुम्हारी मुस्कुराहट हमे कुछ यूं मिला करती है, इस नाचीज़ पर नजर ए करम कर दो, हमे कुछ सख्त ताकीद मिला करती […]

फिर रोज दिवाली आएगी

इस बार दोस्तों चलो कूछ घर से बाहर निकालते हैं, अहसान किए बिना ही कुछ लोगों का भला कर आते हैं, ऊंची दुकान वाले तो रोज़ अच्छा कमाते हैं, गरीब के हाथ कमाने के कुछ ही मौके आते हैं, उनसे कूछ खरीद कर कुछ पैसे उन्हीं तक पहुंचाते हैं, वो भी अपने बच्चों के लिए […]

रखना सुहागन मोहे

🌹👣🌹 रखना सुहागन मेरे बाँके बिहारी । चरणों में तेरे ये है अरजी हमारी ।। बिंदिया सिंदूर मेरा चमके हमेशा । हाथों का कंगना चूड़ी खनके हमेशा । रहमत हमेशा हम पर रखना तुम्हारी । रखना सुहागन मेरे बाँके बिहारी ।। मेरा सुहाग हीं तो ताज़ है मेरा । इनसे हीं घर में कान्हा राज […]

इंसानियत बचाने को

चिंताओं से चिता तक सफर करते इंसान को, समझ महज इस बात की अहम से नीचे पहुंचा सकूं हर इंसान को।। किस वक्त क्या होगा उसे समझ नहीं, समझदारी दिखे बस मेरी हर इंसान को, कभी मयखाने में पैमाने छलक आए थे, दोस्तों के संग बातें करते हर दिखती लड़की को पटाने को। इस यौवन […]