पहलू में

वक्त गुजरता है, लम्हे चले जाते कशमकश के पहलू मेंशाम हो जाती है, मंजर चले जाते उदासी के पहलू में। बैठे ताक रहे थे खिड़की से बाहर अंधेरों कोचांदनी नजर आयी दूर वादियों के पहलू में। कुछ मुस्कुराहट सी आयी लबों पर हमारे जैसे एक आग समाई हो सैलाब के पहलू में। खिंचाव वो सीने … Continue reading पहलू में