धैर्य धर 

धैर्य धर चल उज्ज्वल पथ पर धैर्य धर मुस्कुरा वर्तमान में रह कर वो खड़ा समीप सब देख रहा है धैर्य धर हो रही वर्षा हर पथ पर। हो खड़ा ले रहा गांडीव चढ रथ पर आगे है सगं तेरे वो सारथी बन कर विजय अब निश्चित है, अडिग हो लड़ उठा ले चढा प्रतंचया … Continue reading धैर्य धर