रुखसत 

जानेवाले इस कदर  खुदगर्ज हैं होते,  अपनी बातों से  दिल में बीज हैं बोते।  कुछ खास तो  बयां नहीं करना मुझको पर जिन्हे छोड़ हम रुखसत हो रहे,  कुछ उदास और कुछ हैं रोते।  क्या कहें क्या समझाएं  तुमको ऐ यार मेरे आँसू कुछ हमने भी हैं संजोए,  हम भी तो तुम्हारा साथ हैं खोते।  […]

माता पिता की वन्दना 

हे माँ, तुम्हारे चरण स्पर्श, परम पूज्य तुम महालक्ष्मी हो,  हे पिता, तुम्हारे चरण स्पर्श, परम पूज्य तुम नारायण हो।  आशिर्वाद लिये चल रहा मै, नितदिन अब पूजा है,  तुम्हारे प्यार एवं आशिर्वाद की गंगा पहुँची वैकुण्ठ है।  देख मेरी दशा और पत्नी की दुआओं को मिश्रित होते उस गंगा में,  महावीर ने आगे बढ़कर […]