Month: June 2017

 तू रख चित्त शांत और हावभाव में प्यार

चक्रवात सा आया है सब धुमिल सा हुआ है ठूंठता किसे नजर नहीं कुछ आता   हाथ प्रभू का बस पकडे़ है।  —- सन्दर्भों में बीते हैं साल पीड़ा में है तुम्हारा लाल […]

पिता श्री – आपका आगमन 

अंग्रेजों के बनाये कुछ त्योहार भी अच्छे होते हैं रिश्तों में पिरोए हुए त्योहार अच्छे होते हैं  आज father’s day पर आपका आगमन मेरे यहाँ  ऎसे आशिर्वाद के सूचक भी बहुत अच्छे […]

चुन चुन कर

सुन्दर पंकतियों मे पिरोए अहसास लाया हूँ इस जिंदगी मे सुलझे अनुभव लाया हूँ कुछ खट्टी कुछ मीठी सी होती है जिदंगी यूं तो चुन चुन कर तेरे लिए ये अल्फाज़ लाया […]