क्यों न होगी

चन्द लम्हों को अपने समेट, बयां जो कर बैठे हो नाम उसका, तुम्हारी वाहवाही क्यों न होगी, 

दिल चीर कर जख्मों को दिखा जो दोगे अगर, तुम्हारी चाहत क्यों न होगी।

—–

दास्तां लिखा नहीं करते, हाल ए दिल तो यूंही जाहिर हुआ करते हैं

गैरों में रह कर भी, तुम संग दिल न बने, तो राह ए जिगर खुली क्यों न होगी।

—–

सनम बेवफा हुआ नहीं  करते, हो वक्त बेरहम  तो इत्तफाक नहीं करते,

ये जहां अब भी मुकददस जगह हैं दोस्त यूँ तो, तू पैसा फेंककर देख तेरी दुआ क्यों न होगी।

—-

इजहार कर इन्सान से हाल ए दिल यूंही , देखें तुझे जलालत क्यों न होगी,

इश्क हैं अगर खुदा से तुझे, दास्तां भी फलसफां होगी, देखें फिर तेरी भी इबादत क्यों न होगी। 

Advertisements

About Polastya

simple, humble, ordinary, down to the roots

4 Responses

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s