Poetry

खाली हाथ

हाथ खाली हैं तेरे शहर से जाते जाते 

जान होती तो मेरी जान लुटाते जाते 

… 
अब तो हर हाथ का पत्थर हमें पहचानता है 

उम्र गुज़री है तेरे शहर में आते-जाते 

… 
रेंगने की भी इज़ाज़त नहीं हमको वरना 

हम जिधर जाते नयें फूल खिलाते जाते 

… 
मुझको रोने का सलीक़ा भी नहीं हैं शायद 

लोग हँसते हैं मुझे देख के आते जाते 

… 
अब के मायूस हुआ यारों को रुख़्सत करके 

जा रहे थे तो कोई ज़ख़्म लगाते जाते 

… 
हमसे पहले भी मुसाफिर कई गुज़रे होंगे 

कम से कम राह के पत्थर तो हटाते जाते

Advertisements

Categories: Poetry

1 reply »

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s