Shayari

कहाँ है वो जगह जहाँ सुकून-ए-जहाँ मिलते हैं

कहाँ है वो जगह
जहाँ सुकून-ए-जहाँ मिलते हैं

दिखाते सभी वो मंज़र,
जहाँ सभी मसरूफ मिलते है ।
हम भी निकले हैं
उस गुरु की खोज में
कहते हैं शरण में उसकी,
खुदा मिलते हैं ।
पहुँचा हूँ मैखाने में अभी,
ना समझना मुझे
शराबी
यहाँ दिल से निकले आँसूओं के,
हिसाब मिलते है ।
क्या बेरुखियों के चलते
कमस्कम
इतनी बरपी
जो तसरीफ लिए निकले,
बेज़ार मिलते हैं ।
बता दें
इन फ़िज़ाओं को भी,
हम आज
की वो यहाँ
कितने मजबूर मिलते हैं ।
बैठे रहेंगे नज़रें बिछाए,
इंतज़ार में उनकी
जानते हैं लौटने को वो,
बेताब मिलते हैं ।
कर देते इज़हारे इश्क़
वो हमसे तब ही
जहाँ बग़ीचे से लिए
गुलाब मिलते हैं ।
अब निकले हैं सन्यासी
तलाश में उनकी ऐसे
जैसे खुदा का ख़िदमतगार
मशाल लिए मिलते हैं ।
Advertisements

Categories: Shayari

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s