ख्वाब 

अश्कों के बहने से जो सैलाब आया था

उनमें हमने उस खुदा को पाया था।

____

रहनुमा बन्ने वाले बहुत मिले हमे

गुमराह करना उनकी फितरत पाया था।

___

जूझते सब्र रखे हम बढते रहे बस

उसकी खुदाई में हमने खुद को पाया था।

___

आज हम खडे़ हैं मुस्कान भरे इन लम्हों में

महाकाली ने वक्त पलटकर खुद से मिलाया था।

__

पलटता है वक्त आता है सवेरा मेरे दोस्त

ख्वाब यंहीं तबदील होते हैं खुदा ने हमे समझाया था।

Advertisements

About Polastya

simple, humble, ordinary, down to the roots

1 Response

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s