Shayari

तुम्हारी ज़रा-नवाज़ी के क़ायल हुए हम ऐसे

तुम्हारी ज़रा-नवाज़ी के क़ायल हुए ऐसे

जैसे बर्फ़ किसी मय में मिल पिघले ।
आए थे तेरे कूचे पर बेख़बर यूँ तो
जैसे खुदा की तलाश में जोगी चल निकले ।
थाम कर हाथ बैठा दिया मैखाने में यूँ
जैसे मय की तासीर को परख हल निकले।
एक शोख़ शमा इधर जलने को है और हम
परवाने हो जाएँ , ये शबब हर पल निकले ।
देख कर इस शमा की तन्हाई को करें उससे
चिराग़ों को अपने रोशन , अब घर निकलें।
पर बैठे हैं अब भी, हुए बर्फ़ इस क़दर हम
शमा बन कर सन्यासी भी जैसे जल निकले।
Advertisements

Categories: Shayari

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s