Poetry

आधुनिकता

आधुनिक *मिट्टी के बर्तनों से स्टील और प्लास्टिक के बर्तनों तक*
*और फिर कैंसर के खौफ से दोबारा मिट्टी के बर्तनों तक आ जाना,*

*अंगूठाछाप से दस्तखतों (Signatures) पर*
*और फिर अंगूठाछाप (Thumb Scanning) पर आ जाना,*

*फटे हुए सादा कपड़ों से साफ सुथरे और प्रेस किए कपड़ों पर*
*और फिर फैशन के नाम पर अपनी पैंटें फाड़ लेना,*

*ज़्यादा मशक़्क़त वाली ज़िंदगी से घबरा कर पढ़ना लिखना*
*और फिर IIM MBA करके आर्गेनिक खेती पर पसीने बहाना,*

*क़ुदरती से प्रोसेसफ़ूड (Canned Food & packed juices) पर*
*और फिर बीमारियों से बचने के लिए दोबारा क़ुदरती खानों पर आ जाना,*

*पुरानी और सादा चीज़ें इस्तेमाल ना करके ब्रांडेड (Branded) पर*
*और फिर आखिरकार जी भर जाने पर पुरानी (Antiques) पर उतरना,*

*बच्चों को इंफेक्शन से डराकर मिट्टी में खेलने से रोकना*
*और फिर घर में बंद करके फिसड्डी बनाना और होश आने पर दोबारा Immunity बढ़ाने के नाम पर मिट्टी से खिलाना…..*

*गौशाला से डिस्को पब और शराब खाने तक*
*और फिर गौसेवा परिवार के माध्यम द्वारा गौशालाओं की ओर आना*

*इससे ये निष्कर्ष निकलता है कि टेक्नॉलॉजी ने तुम्हे जो दिया उससे बेहतर तो भगवान ने तुम्हे पहले से दे रखा था ..!!*

*जैसे पहले जीते थे वैसे जियो…*
*टैंशन भागती नजर आयेंगी।।* ******†

####गौतम आवारा####

Advertisements

Categories: Poetry

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s