Month: August 2019

तुम कृष्ण से मिल पाओगे

प्रेम कियो जैसे अलख जगायो, गोपियों संग वो रास रचायो, राधा संग वो बंसी बजायो, सृष्टि रची कैसे ढाई अक्सर में सीखायो।।। ******* मूर्ख संसार कलजुग में फंस्यो, रास लीला को भोग […]

भाईयों के लिए संदेश

जिंदगी उनकी है भली जहां ये नाजों से है पली, गंगा सी निर्मल मधू सी मीठी नहीं हैं बहने जहां वह घर जैसे बिना आग अंगीठी।। ******** सर्वस्व न्योछावर उन पर जिनकी […]

स्वातंत्र्य गौरव के अनमोल पल

राष्ट्रकवि दिनकर की अमर पंक्तियों के माध्यम से हमें स्वातंत्र्य गौरव के अनमोल पल देने वालों को नमन- जला अस्थियां बारी-बारी चिटकाई जिनमें चिंगारी, जो चढ़ गए पुण्यवेदी पर लिए बिना गर्दन […]

मेरी परी

सम्मोहित करता स्वरूप तुमहारा हुआ रोम रोम पुलकित हमारा, मृगनयनी सी अंखियां तुम्हारी पलकें जैसे पंखुड़ियाँ तुम्हारी, देख तुम्हे मोहित हुआ हूँ तुम्हे पाकर मैं सुशोभित हुआ हूँ।। ********* बातें तुम्हारी हैं […]

कुछ लफ्ज़ बोलते

कुछ लफ्ज़ बोलते कुछ हम डोलते कुछ पैमाना छलकाते कुछ तुम मुस्कुराते जिंदगी यूँही हमे झूलाती दिलदारी में तुम पार्टी दे डालती ।। ********* कुछ दोस्त हंसते कुछ हमे हंसाते 2 2 […]