Author Archives

Polastya

सवेरा

भई भोर सवेरा जाग उठा तू त्याग निद्रा को जाग उठा अब बारी योग करने की कुछ ध्यान कुछ कसरत करने की जब अस्तित्व निर्मल होता है तब सवेरा अच्छा होता है।  […]

अटल जी की दीवाली 

कविता अटलजी की है , अतिशय सुंदर ….. …….  जब मन में हो मौज बहारों की चमकाएँ चमक सितारों की, जब ख़ुशियों के शुभ घेरे हों तन्हाई  में  भी  मेले  हों, आनंद […]

तारनहार

नारायण के नाम ले, जुग जुग भयो संसार जप तप सब व्यर्थ गया, यूँही दूर भयो अंधकार। राम राम करत नाही, दुख के विवरण देत अन्भयास ओंकार की चाल पर, पंच तत्व […]

माया है यह

मधुशाला है एक दलदल , धंसते जाना  है  वहीं लालच वहीं माया,  फँसते जाना है  अज्ञानता से मोहवश लगता यही है  प्रेम अपार ये काम मद मोह सब, माँगे समय और कुंध विचार माया है यह, नहीं समभले तो करेगी तिरस्कार।  […]

क्यों न होगी

चन्द लम्हों को अपने समेट, बयां जो कर बैठे हो नाम उसका, तुम्हारी वाहवाही क्यों न होगी,  दिल चीर कर जख्मों को दिखा जो दोगे अगर, तुम्हारी चाहत क्यों न होगी। —– […]

अज्ञानता और ढकोसला

बन्ध रहे पुराने बन्धन रीती रिवाजों के ये सभी मनोरंजन किया ये, न किया वो, तू कैसा है बदजात कर रहा ठीक है, पर बड़ो की नहीं मानी बात कैसे करें पार,  […]

क्यों चल रहा तू करता संग्राम सा

किल्लतों में जीता मरता जरूरतों की झोली भरता कहीं मुस्कराना या फिर कहीं छुपाना यही है तेरा एक अंदाज सा क्यों चल रहा तू करता संग्राम सा।  —— अग्रसर है दुनिया की […]