आज भविष्यवक्ता का कथन पढ़ा

आज भविष्यवक्ता का कथन पढ़ा शरीर में झुरझूरी दौड़ गयी, लगा वही समय और बड़े आग़ाज़ के साथ  लौट आया है, वही सब फिर  होगा, वही पंक्तियाँ  पढ़ी जाएँगी, वही ग़म  दिखायी […]

तेरा नींद से भरी आँखों से मेरी तरफ़ देखना

तेरा नींद से भारी आँखों से मेरी तरफ़ देखना, धीरे धीरे से  खिसक कर  मेरी गोद में लेटना, इन पलों को  संजोये जीता हूँ  मैं मेरी परी। सुबह उठ कर  वो चहचहा […]

ऐसे विचारों ने मुझे झकझोरा

एक लड़की को देखा  देखता ही रहा, कुछ है अलग, क्या है अलग, क्यों है अलग, ऐसे विचारों ने  मुझे झकझोरा । साफ़ रंग  सिर झुका हुआ  सादे वस्त्र हाथ में लैप्टॉप […]

कल हमारी महफ़िल में कुछ दोस्त यार थे

कल हमारी महफ़िल में कुछ दोस्त यार थे | जामों कि खनक थी कुछ यारों के दरमियाँ | सुनने और सुनाने में मगर शोर बहुत था| खाली पड़े हैंजाम ज़राइनकी भी तो […]

कब सत्य प्रत्यक्ष देखूँगा मैं

कहता गुरु बहुत कर्मशील होना है तुम्हें, कहता गुरु बहुत धेर्य धरना है तुम्हें, तब चलोगे तुम तब बढ़ोगे तुम , तब हो अग्रसर नेतृत्व सबका करोगे तुम, यही सुन कर जीता हूँ मैं। मैं बैठा […]

बेख़बर इंसान से ये पूछो की कैसे

बेख़बर इंसान से ये पूछो की कैसे करे इतना अभिमान चढ़ेगा सूली पर कैसे । उसने इसे बनाया क्या सोच कर बनेगा मेरा प्रतिबिंब चढ़ेगा सूली पर कैसे। दशों दिशाओं का ज्ञानी […]

पंछियों से पूछो

पौलयूशन से भरा आसमान देख कर, समझ जाता हूँ  पंछी क्यों  दिखते नहीं यहाँ। पूछा जब मैने  क्यों उड़ते हो वहाँ,  समझ जाओ तुम कहते मुझे , हवा ताज़ा है वहाँ  कैसे जिए हम यहाँ  […]