ऐ शहर

1997 से पहले जन्म वाले जरुर पढ़े बहुत अच्छी फीलिंग आयेगी ☺ . हम लोग, जो 1947 से 1997 के बीच जन्में है, We are blessed because, 👍 हमें कभी भी 👌हमारें माता- पिता को हमारी पढाई को लेकर कभी अपने programs आगे पीछे नही करने पड़ते थे…! 👍 स्कूल के बाद हम देर सूरज […]

मेरी बिटिया

छाया है वो माता की काया है वो पिता की इन्द्र धनुष से सपने उसके थिरकते घर में हैं पैर उसके घर भर देती चह चहा कर वो इठलाती घूमती नखरे दिखाती खुशियां बिखेरती फिरती है वो । ******** उसके बिना ये घर सूना मेरा जग सूना, मेरा मन सूना आती लड़ती झगड़ती यूं रूठती […]

नारी रे नारी

नारी रे नारी तेरी आंखों में सारी दुनिया है न्यारी, देखें तुझे दुनिया वाले सभी रस के प्याले तूने क्यों नहीं देखे ये भाले, तार तार करते रहते गरिमा नंगी आंखों से करते अंगभंगिमा भूले बैठे हैं खुद की कुल गरिमा, खुद सहेज अस्तित्व को अपने देख और कर पूरे सपने दूर कर तू डर […]

शांत

दिल में कुछशब्दों में कुछमुखारबिंद शांत,हथेली में कुछहोठों पर कुछसुरताल शांत,पैरों में कुछसृष्टि में कुछब्रह्म हुए शांत,राधा में कुछलक्ष्मी में कुछप्रेम सरोवर है शांत,भक्ति में कुछकर्मो से कुछप्रभु हैं शांत,खोजते हो कुछढूंढते हो कुछप्रकृति है शांत,अपनों में कुछपरायों में कुछरिश्ते हैं शांत,पढ़ते हो कुछसमझते हो कुछबुद्धि है शांत,करना है कुछसमझना है कुछजिंदगी भी हुई शांत।।

ज़रा मुस्कुरा कर तो देखो

आज की इबादतें और दिल की चाहतें तो देखो, छुपे जज़्बात और यादों से डूबी हमारी तहज़ीब तो देखो, इजहार ए इश्क और अल्फाजों में भीगी नज़रें तो देखो, किस तरह तुमसे मिलेंगे जरा हमारी चाहत की तासीर तो देखो। ********* दिल बेकाबू हो जाएगा तुम ज़रा मुस्कुरा कर तो देखो, तस्वीर से निकल कर […]

तुम कृष्ण से मिल पाओगे

प्रेम कियो जैसे अलख जगायो, गोपियों संग वो रास रचायो, राधा संग वो बंसी बजायो, सृष्टि रची कैसे ढाई अक्सर में सीखायो।।। ******* मूर्ख संसार कलजुग में फंस्यो, रास लीला को भोग समझयो, समर्पण और विश्वास भुलाई दुर्गा रूप स्त्री काली दृष्टि सुहाई, घर में माँ बहन की चिंता बाहर पराई कन्या देख किंचित नहीं […]